HIGH SECURITY REGISTRATION PLATES (HSRP) क्या  होता है

गाड़ियों की नंबर प्लेट पर IND क्यों लिखा होता है

आज कल के दौर में Vehical तो हर किसी के पास होता है और गाड़ियों पर अलग-अलग प्रकार की नंबर प्लेट्स भी लगी होती है

और उन पर कोड और कुछ नंबर भी अंकित होते हैं. But क्या आपने कभी Notice किया है कि आज कल जो नंबर प्लेट आ रही है

इन पर IND भी लिखा होता है मैं पुरानी नंबर प्लेट की बात नहीं कर रहा

ये हम सब जानते हैं कि अपने नजदीक के RTO office में गाड़ी खरीदने के बाद उसको रजिस्ट्रेशन कराना और नंबर प्लेट लगवाना अनिवार्य होता है

जिस पर कुछ कोड और नंबर लिखा जाता है. भारत में प्रत्येक वाहन को मोटर वाहन अधिनियम 1989 के तहत पंजीकृत किया जाता है.

पर आजकल आपने देखा होगा कि गाड़ियों की नंबर प्लेट पर IND क्यों लिखा होता है यह क्यों लिखा जाता है, इसका क्या अर्थ और महत्व है. आइये इस लेख के माध्यम से अध्ययन करते हैं.

नंबर प्लेट पर IND क्यों लिखा होता है

IND” शब्द हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट्स की विशेषताओं की एक सूची का हिस्सा है, जो केंद्रीय मोटर वाहन नियम (Central Motor Vehicles Rules), 1989 में 2005  के संशोधन के भाग के रूप में पेश किया गया था

Demo of IND numbers plate
Demo of IND numbers plate

ये “IND” हाई सिक्योरिटी नंबर, RTO के रजिस्टर्ड नंबर प्लेट वेंडर के पास ही मिलता है और अगर क़ानूनी और complete owner verification documents के साथ लिया गया “IND” नंबर प्लेट हो तो उसके ऊपर एक क्रोमियम प्लेटेड होलोग्राम भी लगा होता है

जो important है जिसे हटाया नहीं जा सकता हैउच्च सुरक्षा नंबर प्लेट्स लाने के पीछे सिर्फ, बाहन को  सुरक्षा प्रदान करना मुख्य कारण है.

इन नई प्लेटों को कुछ खास सुरक्षा सुविधाएं दी गई है जैसे टैम्पर-प्रूफ (tamper-proof) और स्नैप लॉक (snap lock) सिस्टम जिसे किसी भी तरिके से हटाया नहीं जा सकता है.

सड़क के किनारे विक्रेताओं द्वारा स्नैप लॉक को डुप्लिकेट करना लगभग असंभव है

Because जायदातर ये प्लेटें आतंकवादियों द्वारा चोरी या दुरुपयोग के खिलाफ गाड़ियों के मालिकों को सुरक्षा प्रदान करती हैं.

HIGH SECURITY REGISTRATION PLATES (HSRP) क्या  होता है

उच्च सुरक्षा पंजीकरण प्लेट (HSRP), 2001 में सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय (MORTH) द्वारा पेश किए गए वाहनों के लिए नंबर प्लेट है. यह 1mm की विशेष ग्रेड एल्युमिनियम से बना है

Hologram
Hologram of high security numbers plates

और सफेद / पीला परावर्तक शीट्स के साथ लेमिनेट कर दिया गया है. इसके पात्रों पर उभरे हुए कुछ सुरक्षात्मक उत्कीर्ण लेख हैं जो कि काले पर्ण पर गर्म कर के मुद्रांकित या इंबॉस किए गए हैं.

उच्च सुरक्षा पंजीकरण प्लेट की विशेषताएं

  • क्रोमियम आधारित चक्रीय होलोग्राम
  • एक परीक्षण एजेंसी और निर्माता दोनों की अल्फा-संख्यात्मक पहचान वाले लेजर संख्याकरण है.
  • एक रेट्रो-रिफ्लेक्टिव फिल्म जिसमें जांच पड़ताल के लिए उत्कीर्ण लेख “IND” 45 डिग्री के झुकाव पर लिखा होता है.
  • बेहतर दृश्यता के लिए संख्याओं और अक्षरों को प्लेट पर उभरा हुआ बनाया गया है.
  • “IND” शब्द होलोग्राम के नीचे पर्यवेक्षक की बाईं तरफ नीले रंग की एक हल्की छाया में मुद्रित किया गया है.
  • 1 mm एल्यूमीनियम पट्टी से बना होता है.
  •  एक पंजीकरण चिह्न जो कि सामने, रियर और कारों की विंडशील्ड पर प्रदर्शित होता    है.
  • इसमें एक 7 अंकों वाला अद्वितीय लेजर कोड और एक आत्म विनाशकारी windshield स्टीकर भी होता है.
  • इस प्लेट में स्नैप लॉक सिस्टम होता है जिसे हटाया नहीं जा सकता है और इसी कारण यह प्लेट अपनी जगह पर रहती है अगर इसे कोई तोड़ने, हटाने या छेड़-छाड़ करने का प्रयास करता है तो इसे पुन: उपयोग करना संभव नहीं है. इस कारण प्रतिलिपिकरण या द्विगुणन (duplication) से बचा जा सकता है.

उच्च सुरक्षा पंजीकरण प्लेट के फायदे

हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट के काफी फायदे हैं. इससे वारदातों और हादसों पर लगाम लगेगी क्योंकि इसमें क्रोमियम होलोग्राम वाले सात डिजिट का लेजर यूनिक कोड रजिस्ट्रेशन नंबर है.

इसके जरिये किसी भी हादसे या आपराधिक वारदात होने की स्थिति में गाड़ी और इसके मालिक के बारे में तमाम जानकारियां प्राप्त हो जाएंगी.

नंबर प्लेट पर IND, क्रोमियम प्लेटेड नंबर और इंबॉस होने के कारण नंबर प्लेट को रात के वक्त भी गाड़ियों पर कैमरे के जरिये नजर रखना संभव होगा.

इन प्लेट्स पर छेड़छाड़ करना संभव नहीं होगा. लेजर डिटेक्टर कैमरा के लगाने के बाद किसी भी वाहन के बारे में कभी भी आसानी से पता लगाना संभव होगा

और देश भर में हाई सिक्योरिटी रजिस्ट्रेशन प्लेट के लगाने के साथ ही इंजन, अलग नंबर सहित तमाम यूनीक जानकारियां भी नेशनल डेटाबेस में होंगी, जो पूरे देश के वाहनों का एक सेंट्रलाइज्ड रिकॉर्ड होगा.

Leave a Comment

%d bloggers like this: